Trimbakeshwar

नारायण नागबली

पूछताछ

नारायण नागबली ये दोनो विधी मानव की अपूर्ण इच्छा , कामना पूर्ण करने के उद्देश से किय जाते है इसीलिए ये दोने विधी काम्यू कहलाते है। नारायणबलि और नागबपलि ये अलग-अलग विधीयां है। नारायण बलि का उद्देश मुखत: पितृदोष निवारण करना है । और नागबलि का उद्देश सर्प/साप/नाग हत्याह का दोष निवारण करना है। केवल नारायण बलि यां नागबलि कर नहीं सकतें, इसगलिए ये दोनो विधीयां एकसाथ ही करनी पडती हैं।

नारायण बलि अनुष्ठान अपने पूर्वजों की अतृप्त इच्छाओं को पूरा करने के लिए किया जाता है जो दुनिया में फंसी हुई हैं और उनकी संतान को परेशान करती हैं। नारायण बाली में हिंदू अंतिम संस्कार के समान ही अनुष्ठान होता है। ज्यादातर गेहूं के आटे से बने कृत्रिम शरीर का उपयोग किया जाता है। मंत्रों का उपयोग ऐसी आत्माओं का आह्वान करने के लिए किया जाता है जिनकी कुछ इच्छाएँ शेष रहती हैं। अनुष्ठान उन्हें शरीर के अधिकारी बनाता है और अंतिम संस्कार उन्हें दूसरी दुनिया में मुक्त कर देता है।

पितृदोष निवारण के लिए नारायण नागबली कर्म करने के लिये शास्त्रों मे निर्देशित किया गया है । प्राय: यह कर्म जातक के दुर्भाग्य संबधी दोषों से मुक्ति दिलाने के लिए किये जाते है। ये कर्म किस प्रकार व कौन इन्हें कर सकता है, इसकी पूर्ण जानकारी होना अति आवश्‍यक है।ये कर्म जिन जातकों के माता पिता जिवित हैं वे भी ये कर्म विधिवत सम्पन्न कर सकते है। यज्ञोपवीत धारण करने के बाद कुंवारा ब्राह्मण यह कर्म सम्पन्न करा सकता है। संतान प्राप्‍ती एवं वंशवृध्दि के लिए ये कर्म सपत्‍नीक करने चाहीए। यदि पत्‍नी जीवित न हो तो कुल के उध्‍दार के लिए पत्‍नी के बिना भी ये कर्म किये जा सकते है । यदि पत्‍नी गर्भवती हो तो गर्भ धारण से पाचवे महीनेतक यह कर्म किया जा सकता है। घर मे कोई भी मांगलिक कार्य हो तो ये कर्म एक साल तक नही किये जाते है । माता या पिता की मृत्यु् होने पर भी एक साल तक ये कर्म करने निषिध्द माने गये है।

नारायण बली कर्म विधि हेतु मुहुर्त

सामान्यतया: नारायण बली कर्म पौष तथा माघ महिने में तथा गुरु, शुक्र के अस्तगंत होने पर नही किये जाने चाहीए। परंन्‍तु 'निर्णय सिंधु' के मतानुसार इस कर्म के लिए केवल नक्षत्रो के गुण व दोष देखना ही उचित है। नारायण बलि कर्म के लिए धनिष्ठा पंचक एक त्रिपाद नक्षत्रा को निषिध्द माना गया है । धनिष्ठा नक्षत्र के अंतिम दो चरण, शततारका , पुर्वाभाद्रपदा, उत्तराभाद्रपदा एवं रेवती इन साढे चार नक्षत्रों को धनिष्ठा पंचक कहा जाता है। कृतिका, पुनर्वसु उत्तरा विशाखा, उत्तराषाढा और उत्‍तराभाद्रपदा ये छ: नक्षत्र 'त्रिपाद नक्षत्र' माने गये है।

कृपया ध्‍यान दे

नारायण नागबली पूजा 3 दिनों की है जिसमे विधी करने वालोको 3 दिन त्र्यंबकेश्वर मे रुकना पडता है।

कृपया मुहर्त के एक दिन पहले या सुबह जल्दी 6 बजे तक त्र्यंबकेश्वर मे पहुचना पडता है
दक्षिणा पूजा प्रति 2 व्यक्तियों के लिए सभी पूजा सामग्री और खाद्य व्यवस्था भी शामिल है।
साथ आप नए सफेद कपड़े धोती, गमछा, नैपकिन और अपनी पत्नी के लिए साड़ी, ब्लाउज आदि (काले या हरे रंग की तुलना में अन्य) लाये।
सांप की मूर्ति में से एक नग सोने की और चांदी के 8 नग 1.25 ग्राम की आप के साथ लाये।
इस अनुष्ठान के लिए आरक्षण कम से कम 4 दिनों के लिए किया जाना चाहिए. अपना नाम और टेलीफोन नंबर संस्कार के लिए आने से पहले पंजीकृत करिये। यह लाभ उठाने के लिए सभी सुविधाएं आरक्षण बनाने के लिए अपरिहार्य है। आरक्षण फोन या मेल के माध्यम से किया जा सकता है।

महत्वपूर्ण बात कृपया ध्यान में लाने के लिए

पहले और दूसरे दिन पूजा त्र्यंबकेश्वर मंदिर के बगल में पूजा हॉल कब्रिस्तान के अंदर गोदावरी और अहिल्या नदी के संगम (संगम) में की जाएगी। जहां इतने दशकों से पूजा हो रही है। श्रीक्षेत्र त्र्यंबकेश्वर पुरोहित संघ से केवल अधिकृत ब्राह्मण, रजिस्टर संख्या F-352। इस स्थान पर पूजा करने का अधिकार है।

अनधिकृत ब्राह्मण किसी अन्य स्थान पर पूजा कर सकते हैं जैसे त्र्यंबकेश्वर से दूर किसी मंदिर या आश्रम में। वे आपको पूजा स्थल से गोदावरी नदी दिखा सकते हैं और वे आपको समझा सकते हैं कि वे अहिल्या और गोदावरी के उपरोक्त जंक्शन पर आपका पूजा विसर्जन करेंगे। अंतिम दिनों पूजा हॉल में ब्राह्मणों के घर में पूजा होगी।

सामान्य प्रश्न

नारायण नागबली पूजा हमारे पूर्वजों की असंतुष्ट आत्माओं को मोक्ष दिलाने के लिए की जाती है| जबकि नागबली पूजा साँप के दोष से छुटकारा पाने के लिए की जाती है।

नारायण नागबली पूजा करने के लिए तीन दिनों की आवश्यकता होती है, लेकिन पूजा को को पूरा करने के लिए प्रति दिन केवल ३ से ४ घंटे आवश्यक है ।

अनुष्ठान करने वाले उपासको को नए पोशाख पहनाना अनिवार्य है| पुरुषों के लिए सफेद धोती और महिलाओँ के लिए सफ़ेद रंग की साड़ी अनिवार्य है।

नारायण नागबली पूजा करने की कुल मूल्य (दक्षिणा) पुरोहितों द्वारा सुझाई गई पूजा के लिए लगने वाली सामग्री पर निर्भर है।

त्र्यंबकेश्वर मंदिर परिसर में नारायण नागबली अनुष्ठान किया जाता है जिसे, कुल 3 दिनों की आवश्यकता है।

नही, क्योकि पितृ दोष के निवारण के लिए मोक्ष नारायण नागबली पूजा होम के साथ प्रदान की जाती है।

नारायण नागबली मुहूर्त:-2022

मई 14 , 17 , 21 , 27 , 31
जून 4 , 7 , 11 , 14 , 17 , 24 , 27
जुलाई 1 , 4 , 8 , 11 , 15 , 21 , 24 , 28 , 31
अगस्त 4 , 7 , 11 , 16 , 20 , 25 , 28
सितंबर 3 , 8 , 12 , 15 , 18 , 21 , 24 , 30
अक्टूबर 5 , 11 , 14 , 18 , 21 , 26 , 29
नवंबर 1 , 7 , 11 , 15 , 18 , 21 , 25 , 28
दिसंबर 4 , 7 , 10 , 13 , 17 , 20 , 23 , 26

फोटो गैलरी

Title

Title

Title

Title

Title

Title

Title

Title

Title

Title

Title

Title

Title

Title

Title

Title

Title

Title

अनुरोध

श्रीक्षेत्र त्र्यंबकेश्वर पुरोहित संघ के प्राधिकृत ब्राह्मण से पूजा करवाने के लिए त्र्यंबकेश्वर में किसी भी प्रकार की पूजा करने के इच्छुक सभी भक्तों से यह विनम्र अनुरोध है, रजिस्टर संख्या एफ-352।

F-352 पुरोहित संघ के ब्राह्मण स्थानीय हैं, त्र्यंबक में पैदा हुए और खरीदे गए और कई पीढ़ियों से पूजा करते हैं। क्योंकि उनके उक्त क्रेडेंशियल सुप्रीम कोर्ट ने उनके प्रतिनिधि को त्र्यंबकेश्वर मंदिर ट्रस्ट के ट्रस्टी के रूप में स्वीकार कर लिया है। (अब पुरोहित संघ के अध्यक्ष ट्रस्टियों में से एक हैं)

आप स्थानीय ब्राह्मणों को उनकी वेबसाइट पर पुरोहित संघ के लोगो, उनके घर पर विजिटिंग कार्ड या नेम प्लेट से पहचान सकते हैं। उन ब्राह्मणों का निवास मुख्य नगर के अंदर कुशावर्त कुंड या त्र्यंबकेश्वर मंदिर के पास भीड़भाड़ वाले स्थान पर है, मंदिर से दूर आश्रम में नहीं। साथ ही वे अपना उपनाम कभी नहीं छिपाएंगे जैसे अन्य कई अनधिकृत ब्राह्मण शास्त्री या पंडित या गुरुजी के साथ केवल एक (पहला) नाम लिखते हैं

स्थानीय ब्राह्मण आपको कभी भी कॉल नहीं करते और गलत पूजा मार्केटिंग करते हुए आपको बताते हैं कि कैसे वे और उनकी पूजा दूसरों से अलग है (त्र्यंबक में सभी पूजा प्रक्रिया समान है) और आपको पूजा और प्रक्रिया के बारे में भ्रमित करती है। आपका भ्रम वहाँ जीत है।

वे आपको रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, किसी भी होटल या सड़क के किनारे से मिलने / लेने के लिए कभी नहीं कहेंगे क्योंकि उनका अपना स्थान है जहाँ वे पूजा और प्रक्रिया के बारे में चर्चा कर सकते हैं। उनके नाम और पते से आप उनके स्थान पर आसानी से पहुंच सकते हैं।

नकली पंडितों से सावधान रहें या शास्त्री खुद को एक विशेषज्ञ के रूप में दावा करते हैं और आपको वहां की वेबसाइटों, फेसबुक / ट्विटर पेज या एड पर पूजा के 100% परिणाम की गारंटी देते हैं। साइट आदि।

अंतिम लेकिन महत्वपूर्ण कभी भी किसी भी ब्राह्मण को अग्रिम (हाथ से या ऑनलाइन) न दें या न भेजें। पूजा से पहले पुष्टि करें कि क्या वह अधिकृत है, उसके साथ आमने-सामने बात करें (आप उसे फोन पर कभी नहीं समझ पाएंगे) और फिर पूजा करें और एक बार पूजा पूरी होने के बाद उसे दक्षिना दें।

Call icon
Whatsapp icon